Message # 444453

"ये कौन चुरा ले जा रहा है,
चैन और सुकून मेरे नसीब से,

गुजर रहा है दौर इश्क का,
इन दिनों फिर मेरे करीब से"

BACK TO TOP