Message # 443478

*अब मत खोलना मेरी*
*जिंदगी की पुरानी किताबों को...*

*जो था वो मैं रहा नहीं*
*जो हूँ वो किसी को पता नहीं...!!*

 
387
 
96 days
 
Shapeddestiny
BACK TO TOP