Message # 443359

*"सूप्रभातम्"*

*इंसान अपनी कमाई के हिसाब से नहीं*
*अपनी जरूरत के हिसाब से गरीब होता है।* 🌱
*ज़मीन और मुक़द्दर की एक ही फितरत है,*
*जो भी बोया है, वो निकलना तय है !!*

*|| जय सियाराम ||*

*!! श्री साईंनाथाय नम: !!*

BACK TO TOP