Message # 443313

क्या बटवारा था हाथ की लकीरों का भी...

उसके हिस्से में प्यार और मेरे हिस्से में इंतजार...!!

 
285
 
340 days
 
Parveen Unlucky
BACK TO TOP