Message # 443168

भरे बाज़ार में यूँ ही ,हम खाली हाथ लौट आये,

सुना था उसके शहर में शराफ़त के सिक्के नहीं चलते...🏵🏵

🎋✔☆

BACK TO TOP