Message # 443088

महकती रहती हूँ दिनभर ख़्यालों मे तेरे
तेरे #ख़याल है के शीशी कोई इत्र की ...

BACK TO TOP