Message # 441544

आसमानों से फ़रिश्ते जो उतारे जाएँ ,
वो भी इस दौर में सच बोलें तो मारे जाएँ।

उम्मीद फाजली

 
98
 
272 days
 
Sudesh K Jain
BACK TO TOP