Message # 441471

*सोचता था दर्द की दौलत से,*
*एक मैं ही मालामाल हूँ*
*देखा जो ग़ौर से तो,*
*हर कोई रईस निकला..!!!*

BACK TO TOP