Message # 441465

लौट आया तेरी महफील में इक आस लिये
चाहत ना सही दिदार होता रहे ।

 
183
 
198 days
 
Mirza Galib
BACK TO TOP