Message # 441064

जैसे सुहागन महिला बिना सिंदूर के अधूरी रहती है..
.
.
.
.
.
.
ठीक वैसे ही ट्रेनें बिना गुप्त रोग और वशीकरण के विज्ञापन के बगेर अधूरी हैं.. 😂😂

BACK TO TOP