Message # 440788

*खुल कर तारीफ़ भी किया करो, दिल खोल हँस भी दिया करो,*

*क्यूँ बाँध के ख़ुद को रखते हो, पंछी की तरह भी जिया करो..*

BACK TO TOP