Message # 440627

हर रात तेरी जुदाई मार रही है
बस तेरी याद ही आ रही है

गुरुर सा टूटा है कुछ मुझमे

एहसास ऐसा हो रहा है
जी नही मर रहा हूं मै।

BACK TO TOP