Message # 439703

समझा रहा हूं दिल को सुबह से कि,
शाम तो होने दे...वो बाँहों की हथकड़ी अपनी ही है।

 
327
 
340 days
 
Anonymous
BACK TO TOP