Message # 439675

*सब्र कर जरा ,,,,,ए दिल ख़ुशी का पहर भी आएगा,,,,,,*

*ढूँढ़ता रहा तू जिसको,,,,, उसका शहर भी आएगा,,,,,,,*

BACK TO TOP