Message # 439251

*तू मूझे संभालता है, ये तेरा उपकार है मेरे बाबा*

*वरना तेरी मेहरबानी के लायक मेरी हस्ती कहाँ,*

*रोज़ गलती करता हू, तू छुपाता है अपनी बरकत से,*

*मै मजबूर अपनी आदत से, तू मशहूर अपनी रेहमत से!*

*तू वैसा ही है जैसा मैं चाहता हूँ..I*
*बस.. मुझे वैसा बना दे जैसा तू चाहता है*

🙏*सुप्रभातं*🙏

BACK TO TOP