Message # 437708

ये तो वक़्त का है फेर।
कोई कोई आबाद हुआ इश्क़ में।
मगर लाखो , मिट्टी की तरह ढेर।

BACK TO TOP