Message # 437629

स्याही का अन्दाज़ भी बेहद निराला है...
खुद बिखर गई तो दाग बन गये...
किसी और ने बिखेरा तो खूबसूरत अल्फाज़ बन गये...ll

BACK TO TOP