Message # 437205

सुनो, समझकर जो की जाए, वो दुनियादारी है..
बेख़याली में जो हो जाए, वो इश्क़ है वो इश्क़ है!

 
231
 
382 days
 
"Am@rdeep"#
BACK TO TOP