Message # 435995

बस मैं बैठ्या था घणी भीड़ थी
एक #सुथरी_छोरी खड़ी देख कै ना डट्या गया।
.
बोल्या :- मैं तन्नै अपणी #सीट दे दूं पर तूं सोच्चैगी
मैं तन्नै सैट #करण की कौशिश करुं सूं ,
बोली ना तो मैं तो ना #सोच्चूं इसा ...
मखा #रैहण दे फेर खड़ी रै 😕😕😄😃😂

BACK TO TOP