Message # 426718

जहर के प्याले में भी,
जिन्दगी की आशा ढूँढ ...
मीरा के भजनों में,
प्रीत की परिभाषा ढूँढ ...

चाँद-तारे, गर्मी-सर्दी,
सब चीजों में केवल अच्छाई खोज ...
काँटे की तरफ ध्यान ना दे,
जब फूल पकड़े तो केवल खुशबू ढूँढ ...

जो खो गया उसकी चिंता मत कर,
उसे खोना था खो जाने दे उदास ना हो ...
अभी बहुत बचा है जो दूसरों के पास नहीं,
जिस चीज़ में समर्थ है उसमें अभिलाषा ढूँढ ...

सोच बदल ले प्रयास बदल ले,
नए जोश से खोज भी बदल जाएगी ...
दुनियाँ भरी पड़ी है करोड़ों की भीड़ से,
इस भीड़ में कोई अपना सा ढूँढ ...

आँखें तुम्हारी हैं, पैर और सोच तुम्हारी है,
चयन तुम्हारा ही है कि क्या करना है ...
कहाँ जाना, क्या करना और क्या देखना सब तुम पे है,
जब ढूँढने लगे तो अपने लिए हर लम्हा अच्छा खासा ढूँढ॥

 
237
 
169 days
 
Heart catcher
BACK TO TOP