Message # 425267

जिस दिन विभूति ने अंगूरी की और तिवारी जी ने गोरी मेम की टाँगे अपने कंधे पर रख दी,



उस दिन "भाभी जी घर पे हैं" नाटक खत्म हो जाएगा। 💜💜

BACK TO TOP