Message # 425202

*" दिलकश नग़मे, दिलफ़रेब मौसम और कुछ पुराने दोस्त,*

*यक़ीं करने को काफ़ी है, कि ज़िन्दगी ख़ूबसूरत है "*

BACK TO TOP