Message # 425173

*दौलत तो ले के निकले हो तुम जेब में मगर,*

*मुमकिन नहीं किसी का मुक़द्दर ख़रीद लो....*

BACK TO TOP