Message # 425168

जिंदगी मुझको "सा रे ग म"
सुना कर गुदगुदाती रही,

मैं कम्बख़्त उसको "सारे गम"
समझ कर कोसता रहा..

BACK TO TOP