Message # 424941

ऐ सुनो ...
तुम प्रीत हो, तुम रीत हो, तुम गीत हो सुनो ना
तुम जीत हो, तुम शीत हो, तुम मीत हो सुनो ना
तुम मान हो, तुम ध्यान हो, तुम ज्ञान हो सुनो ना
तुम शान हो, तुम तान हो, तुम प्रान हो सुनो ना
तुम ख़ास हो, तुम रास हो, तुम आस हो सुनो ना
तुम सांस हो, तुम पास हो, तुम अट्ठाहस हो सुनो ना
तुम बात हो, तुम ज्ञात हो, तुम रात हो सुनो ना
तुम मात हो, तुम प्रात हो, तुम ख्यात हो सुनो ना
तुम मृदु हो, तुम मीठी हो, तुम मधू हो सुनो ना
मैं *दीपक* हो के भी अंधियारा हूँ,तुम ज्योति हो सुनो ना॥

 
138
 
130 days
 
Heart catcher
BACK TO TOP