Message # 424776

🌷जब से लोगों ने हमको अपना समझना छोड़ दिया,
हमने भी उन लोगों से मिलना- जुलना छोड़ दिया.! ✍️

BACK TO TOP